Monday, September 15, 2014

लोगों के चाँद पर जाने में
कितने ताने-बाने,
मुझे चाँद पर थपका कर
भेज दिया माँ ने |

लोगों को चाँद पर मिलती है,
मिट्टी, हवा, न धूल,
मैं परियों को चाँद पर पाकर
जग ये गया हूँ भूल |

लोगों ने परखा है चाँद पर
साँसें हैं न जीवन,
मैंने वहाँ लीं अनगिन साँसें
जी भर जिया है बचपन |

मुश्क़िल है लोगों का चाँद पर
एक बार ही जाना,
मैं हर रात होता हूँ चाँद पर
जब हो नींद का आनी

No comments:

Post a Comment